नौकरीपेशा लोगों को तोहफा: बढ़ाई आयकर छूट की सीमा, पांच लाख रुपए तक कोई टैक्स नहीं

नई दिल्ली: Budget 2019: नरेंद्र मोदी सरकार (Modi Govt) ने नौकरीपेशा लोगों को बजट में बड़ा तोहफा दिया है. वित्त मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने बजट पेश करते हुए आयकर छूट (Income Tax Deduction Limit) की सीमा बढ़ाने का ऐलान कर दिया है. वित्त मंत्री ने कहा कि अब पांच लाख रुपए तक की आय पर किसकी तरह का कोई टैक्स नहीं लगेगा. इसके साथ ही निवेश करने पर 6.5 लाख रुपए तक कोई टैक्स नहीं देना होगा. तीन करोड़ मध्य वर्ग के लोगों को इससे फायदा मिलेगा. बता दें, आयकर छूट की सीमा बढ़ाने की मांग कई बार से की जा रही थी. लेकिन इस साल लोकसभा चुनाव होने की वजह से आयकर सीमा में छूट बढ़ाने की उम्मीद की जा रही थी. अभी तक यह सीमा ढाई लाख रुपए थी. इसके अलावा 40 हजार तक के बैंक ब्याज पर टैक्स नहीं देना होगा. पहले यह सीमा 10 हजार रुपए तक की थी. आयकर छूट की सीमा बढ़ाने के ऐलान के बाद सेंसेक्स में उछाला आया है.


इसके अलावा पीयूष गोयल ने कहा कि मोदी सरकार ने कर्मचारियों की ग्रेच्युटी (Gratuity) 10 लाख रुपये से बढ़ाकर 20 लाख रुपये कर दी है. हालांकि, हम आपको बता दें, ‘ग्रेच्युटी का भुगतान (संशोधन) अधिनियम, 2018’ 29 मार्च 2018 से लागू कर दिया गया था. ग्रेच्युटी का भुगतान (संशोधन) अधिनियम 2018 जिसे लोकसभा ने 15 मार्च 2018 और राज्य सभा ने 22 मार्च 2018 को पारित किया था, उसे 29 मार्च 2018 से लागू कर दिया गया था. इसके तहत कर्मचारियों की ग्रेच्युटी सीमा को 10 लाख रुपये से बढ़ाकर 20 लाख रुपये कर दिया गया था. वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने बजट पेश करते हुए इसका फिर जिक्र किया.

मोदी सरकार का बड़ा ऐलान: किसानों को प्रति वर्ष दिए जाएंगे 6000 रुपये, तीन किस्तों में मिलेंगे पैसे

वहीं, बजट पेश करते हुए गोयल ने ऐलान किया कि प्रधानमंत्री किसान योजना में 2 हेक्टेयर तक की जमीन वाले छोटे किसानों को 6,000 रुपये प्रति वर्ष मिलेंगे. तीन किस्तों में पैसे मिलेंगे. पहली किस्त जल्द मिलेगी. यह पैसा 2 हेक्टेयर जमीन वाले किसानों को दिया जाएगा. यह योजना दिसंबर 2018 से ही लागू हो जाएगी. इसका पूरा खर्च केंद्र सरकार उठाएगी. इससे 12 करोड़ किसानों को फायदा होगा. इसके साथ ही प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना को मंजूरी दे गई. इस वर्ष किसान निधि के लिए 75 हजार करोड़ रुपए दिए गए हैं.

%d bloggers like this: